Tuesday, June 7, 2011

महारानी अहिल्यादेवी होलकर जयंती महोत्सव सम्पन्न !

अहिल्या जन्मभूमि चोंडी में..

महारानी अहिल्यादेवी होलकर जयंती महोत्सव सम्पन्न !

घोटालों और भ्रष्टाचार को छुपाने के लिये कॉग्रेस और राष्ट्रवादी कॉग्रेस मे समझौता...

- महादेव जानकर का स्पष्ट आरोप

अहमदनगर-31/05/11: महाराष्ट्र राज्य सहकारी बॅंक और आदर्श घोटाला जैसे घोटालों को और भ्रष्टाचार को छुपाने के लिये कॉंग्रेस और राष्ट्रवादी कॉग्रेस मे समझोता हो गया है । आघाडी सरकार की चमड़ी गेंडे की चमडी जैसी है । इस सरकारको जनता से कोई लेना देना नही है.। इसका काम सत्ता को केवल परिवार तक सीमित रखना है.। अहिल्यादेवी होळकर के 286 वे जयंती निमित्त राष्ट्रीय समाज पक्ष की ओर से महाराणी अहिल्याबाई होळकर जयंती महोत्सव तथा महात्मा फुले जयंती निमित्त कटगुण से प्रारंभ होकर युवाशक्ती चेतना रॅली के समापन कार्यक्रमों का चोंडी में (ता.31 में 2011) आयोजन किया गया था । इस कार्यक्रमके प्रमुख मार्गदर्शक के तौर पर श्री जानकर बोल रहे थे । महादेव जानकर का आरोप है कि सेना-भाजपा की तुलना मे कॉंग्रेस राष्ट्रवादी कॉंग्रेस दोनों ही अधिक जातिवादी है. । राष्ट्रीय समाज पक्ष के राष्ट्रीय अध्यक्ष महादेव जानकर ने आगे कहा कि राजमाता अहिल्याबाई होळकर की जयंती गत 16 सालों से मनाई जाती है किन्तु राज्य सरकारको अहिल्याबाई के बारे मे बिल्कुल प्रेम –आदर नहीं है । अब हमारा कर्तव्य है कि इस गेंडे के चमडी के सरकार की चमड़ी को उतार कर इसे जंमीन पर पटक दें। इस देश मे कॉंग्रेस ने ही जातिवादी राजनीति तथा धर्म का खेल खेला है । हर एक राज्यमे गिने चुने लोगों का इस्तेमाल करते हुये संकुचित स्वार्थ साधा है । .कॉंग्रेस राष्ट्रवादी कॉंग्रेस एक दूसरे पर आरोप करते हुये अपना स्वार्थ साध रहे है । जल्द ही और एक बड़ा घोटाला बाहर आने वाला है ।. आदर्श घोटाले मे ये दोनो पक्ष अटके हुये है, इन घोटालों को छुपाने के लिये कॉंग्रेस राष्ट्रवादी कॉग्रेस मे समझोता हुआ है । कार्यक्रम के अध्यक्ष स्थान पर रासप प्रदेशाध्यक्ष पुंडलिक मामा काले थे. । कर्नाटक के भूतपूर्व वित्तमंत्री श्री एच.एम. रेवन्ना, भूतपूर्व एमएलए श्री जनार्दन तुपे, कैलास दिवाण (राष्ट्रीय महासचिव-पश्चिम बंगाल), श्री ललितभाई पटेल (गुजरात रासप अध्यक्ष), झारखंड के सांसद श्री सूरज मंडल, श्री ईश्वरैया सत्यप्रकाश (कर्नाटक रासप महासचिव), श्री गणेशराम देवासी (कर्नाटक रासप अध्यक्ष), श्री एम जी मणिशंकर (तामिळनाडु रासप अध्यक्ष), श्री घनशाम होलकर (राजस्थान), रासप सलाहगार एम.आर.खान., कर्जत-जामखेडके विधायक प्रा. राम शिंदे, अहमदनगर जिल्हा दूध संघ के भूतपूर्व अध्यक्ष दादाभाऊ चितलकर, अहमदनगर जिल्हा बॅंके के पूर्व संचालक श्री रविंद्र मासाल, अहमदनगर रासप जिल्हा अध्यक्ष श्री भानुदास हाके, सचिव महेंद्र शिंदे, प्रा. सुशिला मोराळे, सचिन मासाल, भाऊसाहेब वाघ, आर एम पाल, नारायण देवासी, हनुमंतप्पा पुजेर इन मान्यवरों के साथ हजारों का जनसुदाय उपस्थित था ।

वाघ्या- पुतला को हाथ लगाया तो,राष्ट्रीय समाज पक्ष ईंट का जवाब पत्थर से देगा...

मा. जानकर ने आगे कहा कि, महात्मा फुले ने सर्वप्रथम रायगड पर जाकर छत्रपती शिवाजी महाराज की उपेक्षित समाधि को ढूँढकर निकाला था । महाराज तुकोजीराव होलकर द्वारा दिये गये 5000 रुपयों की मदद से रायगड पर छत्रपती शिवाजी महाराज की समाधि और वाघ्या कुत्ते का पुतला बिठाया गया था । लेकिन रायगड के छत्रपती शिवाजी महाराज की समाधि के सामने स्थापित वाघ्या-पुतले को हटाने की बात कुछ लोग कर रहे हैं । लेकिन यदि किसी ने वाध्या के पुतले को हाथ भी लगाया तो राष्ट्रीय समाज पक्ष उसका जवाब उसी की भाषा में (जैसो को तैसा) कड़ाई से देगा । श्री जानकर ने कहा कि हम ईंट का जवाब पत्थर से देना जानते हैं । इस कोशिश का उद्देश्य सांस्कृतिक न होकर केवल राष्ट्रवादी कॉग्रेस की राजनैतिक साजिश है ऐसा आरोप उन्होने लगाया। फुले शाहू आबेडकर के विचारों को प्रमाण मानने वाली मेरी रासपा सेक्युलर पार्टी है । हम किसी जाती धर्म के खिलाप नहीं है । हम ब्राह्मण के नहीं, ब्राह्मण्यवाद के खिलाप है । मेरा पहला पंचायत सभा का मेंबर मराठा था, मेरा पहला आमदार मराठा है । राष्ट्रवादी कॉग्रेस पक्ष, ये पक्ष नही बल्कि बारामती-विकास-महामंडल है । राज्य के चुनिंदे टग्यां को साथ मे लेकर ये पक्ष बना है । इन टग्यांओं की सत्ता की मस्ती उतारने के लिये रासपा आने वाले चुनावो मे पुरी ताकत से उतरेगा और टग्यां को सत्ता से दूर रखेगा ऐसा इशारा भी उन्होने दिया । माढा लोकसभा मतदारसंघ मे मै खडे होने के कारण शरद पवार को धनगर समाज को अनुसूचित जाती मे समावेश करनेका आश्वासन चुनाव घोषणापत्र में देना पडा था । लेकिन आज दो साल से ज्यादा हो चुके हैं लेकिन पवार साहब के वादे का क्या हुआ ? राज्य मे, देश मे ये लोग ही सत्ता में है । चुनावकाल मे जनता को झूटे वादे करना, चुनकर आना और सत्ता भोगना यही उद्द्योग कॉंग्रेस- राष्ट्रवादी आजतक करती आयी है । शरद पवार को ही मूलत: झूठबाज होने का आरोप जानकर जी ने लगाया ।

ओबिसी शक्ति क्या है, ये हम उन्हे दिखा देंगे...

सुख के वक्त आठवले शरद पवार के साथ थे. लेकिन हमने उन्हे दुःख मे साथ दिया है. भिमशक्ति को, शिवशक्ति के साथ ले जाते समय आठवले साहबने ओबिसी शक्ति का विचार नहीं किया । ओबीसी शक्ति क्या है ये हम उन्हे दिखा देंगे, ऐसा वक्तव्य जानकर जीं ने किया । रिडालोस से रामदास आठवले बाहर चले गये लेकिन रिडालोस का एक भी घटक पक्ष उनके साथ नहीं जायेगा, ऐसा दावा जानकर ने किया. । आने वाले जिल्हा परिषद पंचायत समिति के चुनाव राष्ट्रीय समाज पक्ष अपने बलबूते पर लढेंगा ऐसी घोषणा भी मा. जानकरजी ने की ।

राष्ट्रीय समाज पक्ष एक 'राष्ट्र'व्यापी राष्ट्रीय पक्ष...

अहिल्या जन्मभूमि चोंडी मे रासपा के लगभग 6 राज्यों के प्रतिनिधि उपस्थित थे । राष्ट्रीय समाज पक्ष राष्ट्र व्यापी राष्ट्रीय पक्ष बनने का, तथा प्रत्येक चुनाव-क्षेत्र मे कम से कम 10 हजार वोट पाने की क्षमता के कारण निचले तबके के आम आदमी को भी लोक प्रतिनिधि बनने का अवसर रासपा से दिए जाने का दावा मा. जानकर जीं ने इस वक्तव्य में किया । कर्नाटक के पूर्व वित्तमंत्री रेवन्नाजी ने देश मे बढते भ्रष्टाचार, महेंगाई, गरीबी तथा बेकारी के बारे मे तीव्र असंतोष जताया । राजमाता पुण्यश्लोक अहिल्यादेवी होळकर की जयंती निमित्त उन्हे अहिल्यादेवी जन्मभूमी चोंडी मे कर्नाटक राज्य से आने का अवसर मिला इसका उन्हें आनंद हुआ । अहिल्यादेवी के भूतो न भविष्यति स्वरूप कार्यों की चर्चा उन्होंने की । उन पर प्रेम-आदर करते विराट जनसमूह को देखकर वे अभिभूत थे । इस के लिए श्री रेवन्ना जीं ने महादेव जानकर जीं का आभार मानते हुये संतोष जताया । उन्होंने जताया कि राज्य मे तथा देश मे महादेव जानकर जीं का काम अच्छी तरह से चल रहा है. तथा एक सक्षम पर्याय की तौर पर राष्ट्रीय समाज पक्ष समाज मे परिवर्तन कर सकता है, ऐसा विश्वास भी उन्होने व्यक्त किया । नव निर्वाचित कर्नाटक रासप महासचीव (युवा नेता) श्री ई. सत्यप्रकाश चोंडीमे पहली बार उपस्थित थे । उन्होने कहा, लिडर दो किस्म के होते है । एक लिडर किसीका फालोअर होता है, दुसरा लिडर (नेता) को पैदा करता है । महादेव जानकर लिडर पैदा करने वाले लिडर है । लेपर्ड ( चिताह) जीने के लिये कुछ भी खाता है, लेकिन शेर सिर्फ हंट ( शिकार) करके खाता है । महादेव जानकर शेर है, अपने हंट पर जीता है । अहिल्या जन्मभुमी में आकर मुझे अपनी विशाल विरासत में आने का सौभाग्य प्राप्त हुवा । इससे हम धन्य हुये है । ज्ञातव्य है कि राजमाता पुण्यश्लोक अहिल्यादेवी होलकर की जयंती निमित्त चोंडी मे राज्य तथा देश के कोने कोने से हजारो अहिल्या-प्रेमी और जानकर-प्रेमी अपनी उपस्थिति कराते हैं । अहिल्या-प्रेम के चलते जिल्हा दूध संघ के अध्यक्ष दादाभाऊ चितळकर जी ने पानी तथा भाजपा के विधायक प्रोफेसर राम शिंदे जी ने भोजन की व्यवस्था की थी । झारखंड के मा.सांसद सूरज मंडल, दशरथ राउत, नारायण चालगे आदिओ के सभा मे संबोधन वक्तव्य हुए । इस समय महादेव जानकर जीं को गेवराई (जिल्हा बीड) तालुका के कार्यकर्ताओं ने एक लाख एक हजार रुपयों की थैली अर्पण की । एक पोष्टमन (एस वी देवगुंडे, माजलगाव बीड) ने अपना एक महीने का पूरा वेतन दिया । पुंडलिकमामा काले जी ने 25 हजार रुपयों का सहयोग निधि दी । अहिल्यादेवी होळकर जयंती निमित्त ... भगवान महाराज गडदे के मार्गदर्शन मे आयोजित अखंड हरिनाम सप्ताह का मंगलवार के कीर्तन से समापन हुआ । जयंती निमित्त दिनभर हजारो अहिल्याप्रेमियों का चोंडी गांव आना चलता रहा । मी अहिल्या होणार गं ! (मैं अहिल्या बनुगीं) इस शीर्षक का अहिल्यादेवीं के जीवन पर आधारित एडवोकेट रमेश येडगे निर्मित चित्रपट के चित्रिकरण का मा.महादेव जानकर जी के हाथों शुभारंभ हुआ । एडवोकेट. शफीक परकार संघटक महाराष्ट्र रासप सबका अभिनंदन तथा प्रा. सुभाष भिंगे, महासचिव महाराष्ट्र रासप तथा सचिन माने कार्यकारिणी सदस्य महाराष्ट्र रासप ने सूत्र संचालन किया । अहमदनगर रासप जिल्हा अध्यक्ष मेजर हाके ने आभार प्रकट किया ।

No comments:

Post a Comment